PahadiBlog

मेरा गाँव – पहाड़ी लेख

गाँव शब्द में ही हजारों हजार फीलिंग्स छिपी होती हैं वो हरियाली हवा पानी संस्कृति सभ्यता और प्रकृति का सुंदर संगम होता है एक आदर्श… Read More »मेरा गाँव – पहाड़ी लेख

Dear नयी-नयी ब्योंली

Dear नयी-नयी ब्योंली, जरा मुखड़ी दिखा बल् कन्न स्वांणी ह्वेलि. नई ब्योंली कु डोला जनि चौक मा आई, देखदारों की धौंड़ी लम्बी ह्वे ग्याई। गौं… Read More »Dear नयी-नयी ब्योंली