Kafal- Kya Fal Hai -क्या फल है-

Kafal Kya Fal Hai (क्या फल है)

पंचायत भवन में क्वारनटीन का 11वां दिन काफल पर आधारित लेख (क्वारनटीन सीरीज भाग छः)

यात्री:- क्या फल है पहाड़ी?
पहाड़ी :- साहब काफल है,
यात्री:- अरे में पूछ रहा हूँ कि क्या फल है?
पहाड़ी:- अरे सर कह तो रहा हूँ काफल (Kafal) है,
यात्री:- मजाक करने के लिए मैं ही मिला क्या 😡
पहाड़ी:- मजाक नहीं कर रहा हूँ ये काफल है, 😊
यात्री:- भाई सही-सही बता क्या फल है, कोई उल्टी सीधी चीज तो नहीं है 🙄
पहाड़ी:- नहीं साहब कोई उल्टी सीधी चीज नहीं है, काफल है,😊
यात्री:- यार कुछ तो सही नाम बता, तू तो वही सवाल कर रहा है जो मैं पूछ रहा हूँ, जुबान लड़ाने की हद होती है,😬
पहाड़ी:- अरे साहब मैं कहां जुबान लड़ा रहा हूँ, बोल तो रहा हूँ इसका नाम ही काफल है, चाहे किसी से भी पूछ लो,
यात्री: अरे भाईसाहब ये जो ये Deep red Coloured Berry (गहरे लाल रंग की बैरी) और छोटे छोटे फल बेच रहें है इनका नाम क्या है,
दूसरा पहाड़ी:- साहब काफल है, पेट के लिए अच्छे होतें हैं, और ज्यादा खा लोगे तो फिर सुबह सुबह निकलना मुश्किल हो जायेगा, कम ही खाना।😎

यात्री :- यार कोई सही नाम ही नहीं बता रहा कि काफल है, और उस भाईसाहब का कहने का मतलब क्या है, 🤔
पहाड़ी:- अरे सर वो तो एैंसा ही बोल रहा है, आप एक टेस्ट करके देखिये बिलकुल मिठ्ठे हैं,🤗
यात्री:- ओके , इसको बीज सहित खाना है या सिर्फ बाहर बाहर के रसीलेपन का स्वाद मुह में लेके फेंकना है,😋
पहाड़ी:- नहीं साहब बीज सहित निगल लो। 🥳
यात्री:- वाकई मीठा है, क्या रेट दिये?
पहाड़ी – 10 रुपये के 100 ग्राम साहब,
यात्री:- इतने मंहगे?
पहाड़ी:- साहब नेचुरल है बल और जंगल से लाते हैं पेड़ों से निकालकर,
यात्री:- पर इसका कोई तो नाम होगा औफिसियल?
पहाड़ी:- है ना साहब (Myrica esculenta) मायरिका एस्कुलेंटा,
यात्री:- तुम इतने छोटे हो स्कूल नहीं जाते क्या,
पहाड़ी:- जाते हैं सर पर आजकल हमारी छुट्टियाँ हैं तो इस लिए पहाड़ के फल यात्रियों को बेचते हैं रोड़ किनारे और कुछ दिन का जेब खर्चा निकल जाता है।
यात्री:- that’s good, but I’ll give you 100rs extra.🤠
पहाड़ी:- सर हिंदी बोलो ज्यादा अंग्रेजी नहीं आती 🥰
यात्री: 100 रुपये इनाम देंगे तुम्हे तुम्हारी मेहनत का, यार पहाड़ों से लाते हो, वो भी पेड़ों से तोड़कर It’s a tough job bro.
पहाड़ी:- नहीं साहब हमको इनाम नहीं चाहिए, बस हमारे काफल के बारे में अपने शहर में बताना, हो सके तो आप पास वाली दुकान से 50 रुपये की बुरांस का जूस ले लों, ये भी नेचुरल है और दिल के मरीज के लिए अच्छा होता है,😍
यात्री:- I’ll buy that too. Don’t worry,
पहाड़ी:- प्रणाम सर, वापस आते वक्त जरूर मिलना,

 

लेख: हरदेव नेगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *