सौंगू दिख्येदूं

Songu Dikhendu,

सौंगू दिख्येदूं पर ठुक एैंच आगास चा,
ये गौं का बाटा कु……….!
पय्यां डालि किलै सूख्यूं चा……….।

घस्येनू कु आढासु छों जैंका छैल्
स्कूल्या दगड़यूं कु होंदु छो मेल,
दाना स्यांणा ट्योकदा छा जक्ख मा स्येल।
आज सु डालू घैल किलै पड़यूं चा
ये गौं…………….सूख्यूं चा.

कन् खिल्यूं रौंदूं छो सु बारामास
भ्येंटी छा वैन पृथयूं का चौमास.
कन रौंदू छौ घुघुती की बास,
आज येका फांगा किलै ढोल्या चा।
ये गौं…………….. किलै सूख्यूं चा.

कै पीढ़ी आंदा जांदा देखिन् ये बाटा मा।
कै धियाणुं का आंसु टपकदा देखिन् ये का छैल मा,
पंचनाम देबता भी भ्योंटदा छा जैं तैं दिवरा जांण मा,
अब सी देबतू का बांकुरा भी कक्ख् हरच्यां चा।
ये गौं…………….. किलै सूख्यूं चा.

सौंणे बरखा अर् ह्यूंद कु झौड़ भी नि रुझे सकि व्हीं डाली थैं।
झौड़दा पातौंन् सु अपणी पीड़ा सभ्यूं थैं बिगौंन्दू रै
रूखू ह्वेकि भी गौं कि धार मा सु खड़ु रै।
अब किलै घस्यानी पंणधार बगौंणी चा।
ये गौं का बाटा कु……!
पय्यां डालि किलै सूख्यूं चा।

@hardev
पहलकर्ता -PahadiBlogger.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *